Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

# कुछ देर तो ठहर जाओ

# कुछ देर तो ठहर जाओ

रुका हुआ कुछ मेरे करीब
खाली जैसे कोरा पन्ना
कैसे करूं मैं यकीन
कुछ देर तो ठहर जाओ

वह खास पल जो जीना चाहूं
मुराद लाया हूं सखी
हे प्रिय!
कभी इन ख्वाबों से भी बाहर आओ

तुम प्रेम संगिनी हो मेरी
तुम्हारा अस्तित्व मिथ्या ही सही
तुम मुझ में ही हो
चाहे तुम्हारी मौजूदगी नहीं

किंतु फेर बदल इस मन का
चाहे सच मानना तुम्हें
हां कर लूंगा यकीन
कुछ देर तो ठहर जाओ
~ कुmari कोmal

Language: Hindi
1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
"अच्छे साहित्यकार"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी भाव
नारी भाव
Dr. Vaishali Verma
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम की धुन
राम की धुन
Ghanshyam Poddar
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
Neelam Sharma
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
साँझ ढली पंछी चले,
साँझ ढली पंछी चले,
sushil sarna
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*आध्यात्मिक साहित्यिक संस्था काव्यधारा, रामपुर (उत्तर प्रदेश
*आध्यात्मिक साहित्यिक संस्था काव्यधारा, रामपुर (उत्तर प्रदेश
Ravi Prakash
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यदि आप नंगे है ,
यदि आप नंगे है ,
शेखर सिंह
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
*प्रणय प्रभात*
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
Loading...