Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2021 · 1 min read

🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह लो।

🏠
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।
तू-तू मैं-मैं त्याग राष्ट्र-हित में यह सह लो।

🧿
कोरोना की हार हेतु सबको लड़ना है।
जीवनहित-सद्ज्ञान पकड़ कर के बढ़ना है।
सफल राष्ट्र-सेवा के फन को कुछ तो गह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।

🧿
मास्क पहनिए,साबुन से निज हाथ धोइए।
घर के बाहर नहीं किसी के पास सोइए।
दो गज की दूरी रखने का शुभ दुख सह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।

🧿
राष्ट्र-धरम से बड़ा न कोई धरम मिला है।
स्वस्थ-निरोगी जन हों ऊँचा करम मिला है।
जागो,संयम को गहकर के मन की तह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।
—————————————————–

पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 55 Comments · 717 Views
You may also like:
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
भूख
Saraswati Bajpai
'सती'
Godambari Negi
संस्कार - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटियां
Shriyansh Gupta
घोर अंधेरा ................
Kavita Chouhan
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
पिता
dks.lhp
✍️ 'कामयाबी' के लिए...
'अशांत' शेखर
हम हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
शेर
Rajiv Vishal
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
तुम्हारा देखना ❣️
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
एक ज़िंदा मुल्क
Shekhar Chandra Mitra
प्रतीक्षा करना पड़ता।
विजय कुमार 'विजय'
*मोबाइल उपहार( बाल कुंडलिया )*
Ravi Prakash
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
भगवान रफ़ी पर दस दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
नशा मुक्त अनमोल जीवन
Anamika Singh
Loading...