Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2021 · 1 min read

🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह लो।

🏠
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।
तू-तू मैं-मैं त्याग राष्ट्र-हित में यह सह लो।

🧿
कोरोना की हार हेतु सबको लड़ना है।
जीवनहित-सद्ज्ञान पकड़ कर के बढ़ना है।
सफल राष्ट्र-सेवा के फन को कुछ तो गह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।

🧿
मास्क पहनिए,साबुन से निज हाथ धोइए।
घर के बाहर नहीं किसी के पास सोइए।
दो गज की दूरी रखने का शुभ दुख सह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।

🧿
राष्ट्र-धरम से बड़ा न कोई धरम मिला है।
स्वस्थ-निरोगी जन हों ऊँचा करम मिला है।
जागो,संयम को गहकर के मन की तह लो।
कुछ दिन की है बात सभी जन घर में रह लो।
—————————————————–

पं बृजेश कुमार नायक

8 Likes · 55 Comments · 953 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
TARAN VERMA
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
Adarsh Awasthi
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
हमको तो आज भी
हमको तो आज भी
Dr fauzia Naseem shad
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
Satish Srijan
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
Loading...