Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

कुछ कहमुकरियाँ….

१-
जपूँ अहर्निश उसका नाम।
बनाए बिगड़े सारे काम।
वही मुक्ति वही चारों धाम।
क्या सखि साजन ? ना सखि राम।

२-
आगे पीछे मेरे डोले।
कान में कोई मंतर बोले।
समझ न आए एक भी अच्छर।
क्या सखि साजन! ना सखि मच्छर।

३-
जहाँ भी जाऊँ संग ले जाऊँ।
उस बिन पलभर रह न पाऊँ।
भाए उसका हर स्टाइल।
क्या सखि साजन! ना मोबाइल।

४-
दुनिया भर की खबरें लाए।
एक वही तो मन बहलाए।
उस बिन किससे करूँ मैं चैट ?
क्या सखि साजन ? ना सखि नैट!

५-
लेके मुझे आगोश में अपने।
दिखाए मधुर-मधुर वो सपने।
गुपचुप-गुपचुप करे फिर बात।
क्या सखि साजन ? ना सखि रात।

६-
दिन भर जाने कहाँ वो जाता।
साँझ ढले तब वापस आता।
दरस को उसके दिल बेताब।
क्या सखि साजन ? ना मेहताब।

७-
रातभर कहीं नजर न आए।
दिन में दूर खड़ा इठलाए।
समझे खुद को बड़ा नवाब।
क्या सखि साजन ? ना आफताब।

८-
पलता है नयनों में मेरे।
छलता है पर मन को मेरे।
अद्भुत अनूठा और नायाब।
क्या सखि साजन ? ना सखि ख्वाब।

९-
सही-गलत क्या, वही सिखाए।
मंजिल तक मुझको पहुँचाए।
उस बिन रहे अधूरी नॉलेज।
क्या सखि साजन ! ना सखि कॉलेज।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र. )

1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
प्रभु श्री राम आयेंगे
प्रभु श्री राम आयेंगे
Santosh kumar Miri
परिवर्तन
परिवर्तन
RAKESH RAKESH
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*चॉंदी के बर्तन सदा, सुख के है भंडार (कुंडलिया)*
*चॉंदी के बर्तन सदा, सुख के है भंडार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
सही पंथ पर चले जो
सही पंथ पर चले जो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
कभी कम न हो
कभी कम न हो
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन के रंगो संग घुल मिल जाए,
जीवन के रंगो संग घुल मिल जाए,
Shashi kala vyas
Loading...