Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2016 · 1 min read

कुछ उनके लिए

कुछ उनके लिये…⊙

फिर इक बार… मैं कहूं गी तुझसे…
मैं दूर ही सही… पर रहूंगी तुझमें ॥

जज़बात में…
ख़्यालात में…
बिखरे हुए लम्हात में…!

हर वक्त…
हर हालात में…
मैं बसूंगी हर इक सांस में…!

तो क्या हुआ…!

ग़र नहीं हूँ…
अल्फ़ाज़ में…
रहूंगीहर इक ख्वाब में…!

तेरी दोस्ती…
जो है बंदगी…
इबादत जो बसी है रूह में…!

इस दिल के…
हर इक तार में…
हर दुआ में हर…
इक सांस में…
इस जमी में…
इस कायनात में…!

तेरी नज़्म में…
बज़्मात में…
मैं बसूंगीहर फरियाद में…!

तू है दूर तो… बस ये सही…
मै बसूंगीतुझमें… ही कही ॥

फ़िर इक बार… कहूंगी ये तूझसे…
मैं दूर ही सही… पर रहूंगी तूझमें ॥

Language: Hindi
Tag: कविता
421 Views
You may also like:
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
नहीं रहे "कहो न प्यार है" के गीतकार व हरदिल...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जात-पात के आग
Shekhar Chandra Mitra
आ जाओ राम।
Anamika Singh
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
*जगत का अद्भुत मधुर विधान है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
🌺🌤️जिन्दगी उगता हुआ सूरज है🌤️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुनता नहीं कोई
Dr fauzia Naseem shad
आरंभ
Saraswati Bajpai
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
हेलो पापा ! हेलो पापा !
Buddha Prakash
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
जितना आवश्यक है बस उतना ही
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
प्रतीक्षा करना पड़ता।
विजय कुमार 'विजय'
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
दिया जलता छोड़ दिया
कवि दीपक बवेजा
मत करना
dks.lhp
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
✍️कुछ नही मिलता मुफ्त में..
'अशांत' शेखर
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
फर्ज
shabina. Naaz
सौ बात की एक
Dr.sima
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
Loading...