Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*

किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)
_______________________
1)
किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम
जिन्हें बुलाते राम जी, उनको कोटि प्रणाम
2)
भाग्यवान ही कह रहे, राम राम श्री राम
तर जाऍंगे जो सदा, लेते हरि का नाम
3)
एक बार छवि राम की, देखी जहॉं ललाम
हृदय अयोध्या हो गया, पूर्ण भाव निष्काम
4)
जिह्वा हर क्षण बोल रे, जय जय सीताराम
पावन करता श्वास को, मुक्ति प्रदाता नाम
5)
जीवन-भर भटका मनुज, मायावश अविराम
अंतिम क्षण आया समझ, राम सत्य का नाम
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
Ravi Prakash
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
3380⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अनमोल हीरा*
*अनमोल हीरा*
Sonia Yadav
"मुझे हक सही से जताना नहीं आता
पूर्वार्थ
जय हनुमान
जय हनुमान
Santosh Shrivastava
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुकून
सुकून
Er. Sanjay Shrivastava
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
बापक भाषा
बापक भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
Loading...