Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*

किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)
_______________________
किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है
बड़ा-सा रण का कोई मोरचा ज्यों खोल लेना है
सभी यह चाहते हैं सिर्फ तारीफें हों जी-भर कर
सभी को मीठा-मीठा मिश्रिओं का घोल लेना है
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
Umender kumar
लग जाए वो
लग जाए वो "दवा"
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
*तीर्थ नैमिषारण्य भ्रमण, दर्शन पावन कर आए (गीत)*
*तीर्थ नैमिषारण्य भ्रमण, दर्शन पावन कर आए (गीत)*
Ravi Prakash
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
Loading...