Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

किसान मजदूर होते जा रहे हैं।

किसान मजदूर होते जा रहे हैं।

रातों जागते,स्वेद बहाते,
स्वप्न अच्छे दिनों के सजाते,
हर विपदा से लोहा मनवाते,
रुखी सुखी ही खा रहे हैं!
किसान मजदूर होते जा रहे हैं!!

धरा चीर परिश्रम उगाया,
हर सत्ता ने ठुकराया,
बादलों ने भी तरसाया,
फिर भी देखो मुस्कुरा रहे हैं!
किसान मजदूर होते जा रहे हैं!!

सोचते अब तो अच्छा होगा,
मकान अपना भी पक्का होगा,
स्वयं का चाहे भूखा बच्चा होगा,
सम्पूर्ण देश को खिला रहे हैं!
किसान मजदूर होते जा रहे हैं!!

हाय! धंसी कपोल,झुर्रि ले चेहरा।
हाय!पुस रात की खेत में पहरा।
आहा! धरा से रिश्ता कितना गहरा।
भार कंधे सारा उठा रहे हैं!
किसान मजदूर होते जा रहे हैं!!

रोहताश वर्मा ‘मुसाफ़िर’

खरसंडी, हनुमानगढ़

2 Likes · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पापा गये कहाँ तुम ?
पापा गये कहाँ तुम ?
Surya Barman
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
Swami Ganganiya
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पानी
पानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दिल साफ होना चाहिए,
दिल साफ होना चाहिए,
Jay Dewangan
"You can still be the person you want to be, my love. Mistak
पूर्वार्थ
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...