Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

“कारण”

“कारण”
कई राष्ट्रों में
क्रान्ति का मूलभूत कारण
रोटियाँ रही हैं
वजह ये भूख
नैतिकता को जला देती है,
और कविता
खून को
रग-रग में बहा देती है।

1 Like · 1 Comment · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
पूर्वार्थ
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आजकल नहीं बोलता हूं शर्म के मारे
आजकल नहीं बोलता हूं शर्म के मारे
Keshav kishor Kumar
*मेरी रचना*
*मेरी रचना*
Santosh kumar Miri
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
ग्रन्थ
ग्रन्थ
Satish Srijan
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
शेखर सिंह
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
भारत का बजट
भारत का बजट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#लघुकथा / #हिचकी
#लघुकथा / #हिचकी
*प्रणय प्रभात*
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🌸 आशा का दीप 🌸
🌸 आशा का दीप 🌸
Mahima shukla
Loading...