Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

काँटों पर चलने की तो मेरी फ़ितरत हो गयी

जब मैं पाया उसको ही सारी राह में बिखरे हुए
काँटों पर चलने की तो मेरी भी फ़ितरत हो गयी/

जब मैं चाहा बन चिराग़ दुनिया को रोशन करूँ
इन हवाओं की तो मुझसे ही ख़िलाफ़त हो गई/

इतने ख़्वाबों को तो मैं अपनी आँखों में ढोता रहा
इनकी आँचों से ही अब मुझको हरारत हो गयी/

जिनकी ख़ातिर मैं तो इस दुनिया से टकरा गया
आज तो उनको ही ख़ुद मुझसे शिकायत हो गयी/

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
Sonu sugandh
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
💐प्रेम कौतुक-507💐
💐प्रेम कौतुक-507💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
पूर्वार्थ
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
2519.पूर्णिका
2519.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
*कलम (बाल कविता)*
*कलम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ऐसा भी नहीं
ऐसा भी नहीं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
हमारी
हमारी "इंटेलीजेंसी"
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
Loading...