Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

क़िस्सा अजीब है न कहानी अजीब है

किस्सा अजीब है न कहानी अजीब है
राजा के साथ है जो वो रानी अजीब है
********
घटती है उम्र उसकी न मरती है दोस्तो
रहती है चाँद पर वो जो नानी अजीब है
********
दिन में महकती रहती है हैरत ज़दा हूँ मैं
सब ख़ुशबुओं में रात की रानी अजीब है
********
इबरत हंसी मजाक़ नहीं फलसफ़ा है ये
जो लिख रहा हूँ मैं वो कहानी अजीब है
********
झरने पहाड़ फूल हवा धूप छाँव क्या
कुदरत की एक एक निशानी अजीब है
********
सालिब चन्दियानवी

369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
अगर आप रिश्ते
अगर आप रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*योग (बाल कविता)*
*योग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Jo Apna Nahin 💔💔
Jo Apna Nahin 💔💔
Yash mehra
ଅନୁଶାସନ
ଅନୁଶାସନ
Bidyadhar Mantry
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
FUSION
FUSION
पूर्वार्थ
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"बकरी"
Dr. Kishan tandon kranti
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
तेरा फिक्र
तेरा फिक्र
Basant Bhagawan Roy
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
............
............
शेखर सिंह
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भिखारी का आशीष
भिखारी का आशीष
BINDESH KUMAR JHA
Loading...