Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

कहीं आदर नहीं मिलता

कभी घर में नहीं मिलता, कभी बाहर नहीं मिलता
यहाँ पर अब बुजुर्गों को, कहीं आदर नहीं मिलता

तरक्की हो गयी थोड़ी, सभी कुछ भूल जाता है
हुआ है मतलबी बेटा, कभी हँसकर नहीं मिलता

कभी भी आँख का पानी, न मरने दीजियेगा बस
नदी जब सूख जाती है, उसे सागर नहीं मिलता

थके हैं अनवरत चलकर, जहाँ आराम कर लें कुछ
न जाने क्यों उन्हें वो मील का पत्थर नहीं मिलता

भुला कर सब गिले शिकवे, कोई त्यौहार मन जाये
जिसे वो कह सकें अपना, उन्हें वो घर नहीं मिलता

न दिन में नींद आती है, न मिलता चैन रातों को
कभी खटिया नहीं मिलती, कभी बिस्तर नहीं मिलता

न दौलत की कमी कोई, न शोहरत की कोई इच्छा
घड़ी भर पास जो बैठे, कोई सहचर नहीं मिलता
रचना : बसंत कुमार शर्मा, जबलपुर

1 Comment · 243 Views
You may also like:
सुभाषितानि
Shyam Sundar Subramanian
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें हटानी है
surenderpal vaidya
मेरे तुम
अंजनीत निज्जर
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
देखिए भी प्यार का अंजाम मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Writing Challenge- अलविदा (Goodbye)
Sahityapedia
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
Memories in brain
Buddha Prakash
श्याम नाम
लक्ष्मी सिंह
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
*सर्दियों में सौ दवाई की दवाई धूप है (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
गुरु तेग बहादुर जी का वलिदान युगों तक प्रेरणा देगा।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
मुखौटा
संदीप सागर (चिराग)
ईद
Khushboo Khatoon
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
गुलिस्तां
Alok Saxena
बाल कहानी- बाल विवाह
SHAMA PARVEEN
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
रहने वाली वो परी थी ख़्वाबों के शहर में
Faza Saaz
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
बदलती परम्परा
Anamika Singh
Loading...