Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

कहां जाऊं सत्य की खोज में।

गुरबती में यहां अपनी,
जिंदगी कट रही है।
कहां जाऊं सत्य की खोज में,
जब हर खुशी रो रही है।।

हमें तो बस जीना है,
जिंदा रहने के लिए।
वक्त ही कहां है,
सत्य और झूठ जीने के लिए।।

हम गरीब हैं,
हमें क्या वास्ता है सत्य और झूठ से।
बस दो वक्त की भूख मिटे,
काम कर रहे हैं जिंदगी भर से।।

बस्ती है माकां है,
और रहने को है बशर,
इंसा तो है सब ही यहां,
पर जानवरों सी है गुजर।।

नज़रों के सामने हो रहा सितम है,
पर मदद को न कोई यहां हाथ है।
सबको है बस अपनी पड़ी,
किसी को न किसी का साथ है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 2 Comments · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
एक सत्य यह भी
एक सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
Neelam Sharma
फल का राजा जानिए , मीठा - मीठा आम(कुंडलिया)
फल का राजा जानिए , मीठा - मीठा आम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सादगी अच्छी है मेरी
सादगी अच्छी है मेरी
VINOD CHAUHAN
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
Ranjeet kumar patre
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
शेखर सिंह
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...