Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

उत्तर प्रदेश के कैराना की हालत को बयान करती एक ग़ज़ल
———————————————-
ग़ज़ल
—–
ज़ुबाँ पर ख़ौफ़ के ताले, दिलों में दर्दे रूखसत है।
बिकी जो मोल मिट्टी के, करोड़ों की विरासत है।

ये कैसे दौर से दो चार है तू, शहरे कैराना;
किसी पर मौत का साया, कहीं लुटने की दहशत है।

बचाकर जानो’ इज़्ज़त भागने की मुश्किलों में हम;
किसी को क्या बतायें, हर जगह ज़ालिम सियासत है।

भिड़ेगा कौन उन बेख़ौफ़ मुजरिम सरगनाओं से;
जिन्हें सत्ता की शह पर, मिल रही भरपूर ताक़त है।

पलायन की शिकायत भी किसी से कर नहीं सकते;
उन्हें ख़ामोश ही रहना है, ऐसी ही हिदायत है।

कई लोगों को तो ये सब, दिखाई ही नहीं देता;
अजब मासूमियत उनकी, ग़ज़ब उनकी नज़ाकत है।

हज़ारों हिन्दुओं की बेबसी पर, ऐसी ख़ामोशी;
भला है कौन कुर्सी पर, भला किसकी हुकूमत है।

कई कश्मीर गुपचुप पल रहे हैं देश के भीतर;
किसे तफ़तीश की फ़ुरसत, किसे इसकी इजाज़त है।

सियासतदान कुछ, इस देश को बरबाद कर देंगे;
कोई माने न माने, पर यही सच्ची हक़ीक़त है।

—-बृज राज किशोर

2 Comments · 218 Views
You may also like:
जग
AMRESH KUMAR VERMA
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्र
Vijaykumar Gundal
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
आदमी की आवाज हैं नागार्जुन
Ravi Prakash
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...