Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2019 · 1 min read

कविता

एक इशारा……

हम नही भूलें है अब तक आपके व्यवहार को,
जानते है खूब हम तो आपके परिवार को,

आँख को सपने दिखाए प्यास को पानी,
इस तरह करते रहे, हर रोज़ मनमानी,

शब्द टपकाते रहे दो होंठ से आभार को,
हम नही भूलें है अब तक आपके व्यवहार को,

लाज को घूँघट दिखाया पेट को थाली,
आप तो भरते गये पर हम हुए ख़ाली,

हम भी आखिर कब तलक सहते अत्याचार को,
हम नही भूलें है अब तक आपके व्यवहार को,

पाँव को बाधा दिखाई हाथ को डण्डे,
दे दिए बैनर कभी तो दे दिए झण्डे,

हम तो बस मोहरें ही रह गये जीत और प्रचार को,
हम नही भूलें है अब तक आपके व्यवहार को।

Language: Hindi
234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from jyoti jwala
View all
You may also like:
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
माँ का निश्छल प्यार
माँ का निश्छल प्यार
Soni Gupta
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
हकीकत  पर  तो  इख्तियार  है
हकीकत पर तो इख्तियार है
shabina. Naaz
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ना पूंछों हमसे कैफियत।
ना पूंछों हमसे कैफियत।
Taj Mohammad
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
"फ़र्श से अर्श तक"
*Author प्रणय प्रभात*
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
The_dk_poetry
प्यार का मौसम
प्यार का मौसम
Shekhar Chandra Mitra
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...