Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2017 · 1 min read

कविता मुश्किल नहीं होती

कविता मुश्किल नहीं होती
ये कभी मुश्किल नहीं होती
.
तुम जाना अपने घर मे
कमरे की उस अलमारी से
जो बाद पड़ी है पहरों से
हाथ डाल के उठा लेना
कुछ फुटकर सिक्के
जिनसे खरीदते थे पतंगे
.
भीड़ से भरे बाजार मे
खड़े होकर उन्हे उछालना
अंखे बंद करके सुनना
मिलेगी तुम्हें उनकी एक धुन
.
शब्द मिलेंगे तुम्हें बाजार से
कुछ घर से, कुछ आकाश से
कल्पनाओ के धागे से
उन्हे सभालकर पिरो देना
.
आँख खोलने पर दोस्त तुम्हें
मिलेगी एक खुशी जीवन की
अब तुम चाहो तो इसे
कह सकते हो कविता ।
.
© — सत्येंद्र कुमार

Language: Hindi
371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
"एक भगोड़ा"
*Author प्रणय प्रभात*
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
Ravi Prakash
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पत्नी रुष्ट है
पत्नी रुष्ट है
Satish Srijan
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
2294.पूर्णिका
2294.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
हर दुआ में
हर दुआ में
Dr fauzia Naseem shad
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
💐Prodigy Love-11💐
💐Prodigy Love-11💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय पर संकल्प करना...
समय पर संकल्प करना...
Manoj Kushwaha PS
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
'अशांत' शेखर
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
खुशी की खुशी
खुशी की खुशी
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
Loading...