Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2016 · 1 min read

कविता :– तू चीख यहां आलाप ना कर !!

कविता :– तू चीख यहां आलाप ना कर !!

ठोकर लगी विलाप ना कर !
तू चीख यहां आलाप ना कर !!

नई डगर है , सत्य शपथ ले ,
अब तू चिंतन जाप ना कर !
बाँह फैलाए ,
राह खड़ी हैं ;
कदम रोक के पाप ना कर !!

भले सफर मुश्किल होगा ,
इन टेढ़ी-मेढ़ी राहों का !
दूर खड़ी ,
एक मंजिल होगी ;
पगडंडी की माप ना कर !!

आज जला दे तू अपने ,
अहंकार के रावण को !
लंका दहन ,
समझ ले उसको ;
खोने का पश्चाताप ना कर !!

दुराचार अपराधों में भी ,
सदा सत्य की विजय हुई है !
अन्तर्द्वन्द छेड़ ,
तू खुद से ;
दुर्जन सा क्रियाकलाप ना कर !!

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 614 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
Ravi Prakash
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
"फितरत"
Ekta chitrangini
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
pratibha Dwivedi urf muskan Sagar Madhya Pradesh
फागुन
फागुन
Punam Pande
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
■ आज का संदेश...
■ आज का संदेश...
*प्रणय प्रभात*
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
“गर्व करू, घमंड नहि”
“गर्व करू, घमंड नहि”
DrLakshman Jha Parimal
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
कवि दीपक बवेजा
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
स्नेह
स्नेह
Shashi Mahajan
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
VINOD CHAUHAN
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
Loading...