Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2020 · 1 min read

कल किसने देखा

कभी मतलब से मतलब कि तरफ नहीं देखा
कभी जिंदगी को जिंदगी की तरह नहीं देखा
मुझे पता है लोग मतलबी है
कभी विष को “शिवी,”अमृत सा नहीं देखा

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 512 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
चाय
चाय
Rajeev Dutta
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
Shweta Soni
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
*प्रणय प्रभात*
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
पिता
पिता
sushil sarna
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
ललकार भारद्वाज
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
जगदीश लववंशी
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
VINOD CHAUHAN
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
Ravi Prakash
Loading...