Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 26, 2016 · 1 min read

कल्पना

ऐ कवि-शायर! कहाँ तुम छिप कर बैठे हो.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
कहाँ निर्भीक वह यौवन, जिसे तुम शोख कहते हो.
कहाँ जलता हुआ सौन्दर्य, जिसको ज्योति कहते हो .
कहाँ कंचनमयी काया, कहाँ है जुल्फ बादल सा.
किधर चन्दन सा है वह तन, कहाँ है नैन काजल सा.
हाँ देखा है सड़क पर शर्म से झुकती जवानी को,
सुना कोठे की मैली सेज पर लुटती जवानी को.
इसी मजबूर यौवन पर लगाकर शब्द का पर्दा,
सच्चाई को छिपाने का तेरा यह बचपना है क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
फटें हों बसन जिस तन के, उसे ढंकना बताना क्या.
जो घूँघट लुट चुका उसको, भला पर्दा सिखाना क्या.
करती भूख की खातिर, जो अपने रूप का सौदा.
उस मजबूर बाला को भी, शहनाई सुनाना क्या.
यहाँ पर रहनुमा तन पर धवल खद्दर पहनते हैं,
मगर कुरते के नीचे अपनी गंजी मैली रखतें हैं.
अगर मन साफ़ ही ना हो तो फिर संगम नहाना क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
फिजा बदली- घटा बदली, ज़मीं बदली- जहां बदला.
हवा ऐसी चली इंसान का, दिल और इमां बदला.
खुदा- भगवान् का अब फैसला, इंसान करता है.
यहाँ मंदिर- वहाँ मस्जिद, इसी मुद्दे पर लड़ता है.
जिस मुल्क में निर्धन- दलित अपमान सहते हैं,
जहां खुनी- लुटेरा शान से सरेआम रहते हैं.
मापतपुरी तन्हाई में ये सोच कर देखो,
यही इकबाल के सपनों का वो हिन्दोस्तां है क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.

——- सतीश मापतपुरी

158 Views
You may also like:
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
अल्फाजों के घाव।
Taj Mohammad
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
मन की उलझने
Aditya Prakash
नजरों की तलाश
Dr. Alpa H. Amin
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
Tell the Birds.
Taj Mohammad
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खुशबू
DESH RAJ
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
Loading...