Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

कल्पना

ऐ कवि-शायर! कहाँ तुम छिप कर बैठे हो.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
कहाँ निर्भीक वह यौवन, जिसे तुम शोख कहते हो.
कहाँ जलता हुआ सौन्दर्य, जिसको ज्योति कहते हो .
कहाँ कंचनमयी काया, कहाँ है जुल्फ बादल सा.
किधर चन्दन सा है वह तन, कहाँ है नैन काजल सा.
हाँ देखा है सड़क पर शर्म से झुकती जवानी को,
सुना कोठे की मैली सेज पर लुटती जवानी को.
इसी मजबूर यौवन पर लगाकर शब्द का पर्दा,
सच्चाई को छिपाने का तेरा यह बचपना है क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
फटें हों बसन जिस तन के, उसे ढंकना बताना क्या.
जो घूँघट लुट चुका उसको, भला पर्दा सिखाना क्या.
करती भूख की खातिर, जो अपने रूप का सौदा.
उस मजबूर बाला को भी, शहनाई सुनाना क्या.
यहाँ पर रहनुमा तन पर धवल खद्दर पहनते हैं,
मगर कुरते के नीचे अपनी गंजी मैली रखतें हैं.
अगर मन साफ़ ही ना हो तो फिर संगम नहाना क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.
फिजा बदली- घटा बदली, ज़मीं बदली- जहां बदला.
हवा ऐसी चली इंसान का, दिल और इमां बदला.
खुदा- भगवान् का अब फैसला, इंसान करता है.
यहाँ मंदिर- वहाँ मस्जिद, इसी मुद्दे पर लड़ता है.
जिस मुल्क में निर्धन- दलित अपमान सहते हैं,
जहां खुनी- लुटेरा शान से सरेआम रहते हैं.
मापतपुरी तन्हाई में ये सोच कर देखो,
यही इकबाल के सपनों का वो हिन्दोस्तां है क्या.
ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या.

——- सतीश मापतपुरी

Language: Hindi
Tag: कविता
295 Views
You may also like:
जिद्दी परिंदा 'फौजी'
Seema 'Tu hai na'
:::: हवा ::::
MSW Sunil SainiCENA
सुर और शब्द
Shekhar Chandra Mitra
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
!! सुंदर वसंत !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
मां
Sushil chauhan
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
हनुमंता
Dhirendra Panchal
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
परिचय- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मैं उसकी ज़िद हूँ ...
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
शिवांश सिंघानिया
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
"श्री अनंत चतुर्दशी"
पंकज कुमार कर्ण
शिशिर की रात
लक्ष्मी सिंह
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम की राख
Buddha Prakash
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
देखिए भी किस कदर हालात मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वो हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
नित यौवन
Dr. Sunita Singh
'इरशाद'
Godambari Negi
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
Loading...