Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 2 min read

कलियुग

कलियुग

सूर्य समय पर अस्त हो गया,
जीव धूम्रमय मस्त हो गया ।
कलुषित सारा राग हो गया,
तिमिर वनों में काग खो गया । ।

घुमड़ित घन घनश्याम हो गये,
सावन में भी फाग हो गया ।
कलियों का बैराग देखिये,
काँटों से अनुराग हो गया । ।

गिद्ध गा रहे गीत सृजन के,
साँपों को वैराग हो गया ।
हिमशिखरों की शीतलता से,
मौसम सारा आग हो गया । ।

चंदन की खुशबू में पलकर,
मूषक काला नाग हो गया ।
कलियों से मकरंद खो गया,
गीत सिमटकर छंद हो गया ।।

दिनकर शशि का मीत बन गया,
ताँडव प्रिय संगीत बन गया ।
देखो कैसा गीत बन गया,
बैरी सच्चा मीत बन गया ।।

कामदेव संन्यासी बनकर,
वीतराग अविनाशी बनकर ।
शिव की लट से गंगाजल पी,
ब्रह्मा का प्रिय मीत बन गया । ।

चाँद खो गया सघन केश में,
रावण संन्यासी के वेश में।
मुर्दे हाहाकार कर रहे.
चोर भरे संतों के देश में ।।

विधि का देखो क्या विधान है,
डाकू बन गये सब प्रधान हैं।
कृष्ण पड़े हैं बन्दीगृह में,
कंसराज जन जन के मान हैं ।।

ब्राह्मण खाते माँस देखिये,
गऊ की अंतिम साँस देखिये ।
रावण है त्रैलोक्य विजेता,
राम चले वनवास देखिये ।।

विधि का तो संत्रास यही है,
किसने ऐसी बात कही है।
कलियुग में सब उल्टा होगा,
बेटा है पर बाप नहीं है ।।

सच्चा मैं पर आप नहीं है,
मैं जो करता पाप नहीं है ।
चोरी डाका झूठ डकैती,
कोई पश्चाताप नही है ।।

कैसा अब यह देश हो गया,
नकली सबका वेश हो गया।
महावीर बुद्धा गाँधी का,
झूठा सब संदेश हो गया ।।

3 Likes · 229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prakash Chandra
View all
You may also like:
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
कान्हा तेरी नगरी
कान्हा तेरी नगरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
हारो मत हिम्मत रखो , जीतोगे संग्राम (कुंडलिया)
हारो मत हिम्मत रखो , जीतोगे संग्राम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
इक क्षण
इक क्षण
Kavita Chouhan
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
अस्तित्व पर अपने अधिकार
अस्तित्व पर अपने अधिकार
Dr fauzia Naseem shad
#dr Arun Kumar shastri
#dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
" चले आना "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...