Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 2 min read

कलियुग की संतानें

इस घोर कलियुग में अगर आपकी संतान आपके पक्ष में है, आपकी इज्जत करती है, आपके कहे अनुसार अपना जीवन गुजारती है, तो यकीन से कह सकता हूँ, कि आप के हिस्से में पुण्य बहुत हैं, जिस का फल आपको मिल रहा है, अन्यथा आज संतान अपनी मर्जी से ही हर काम करना चाहती है, उस को किसी की भी दखलंदाजी पसंद नहीं है, अगर उस की मांग को न माना गया तो वो विरोध करती है, हाथ तक उठा सकती है, ज्यादा अगर कुछ कह दिया तो क़त्ल करने से भी नहीं पीछे हटेगी, आपने पैदा किया आपने अपने फ़र्ज़ अदा करने हैं, यहीं तक का दायरा आजकल स्वीकार योग्य रह गया है, उनका विरोध करने का आपके पास हक़ नहीं रह गया है ! इस फोटो में ऐसा ही एक उदाहरण प्रस्तुत कर रहा हूँ, जहाँ एक बेटी अपने माँ बाप से 4 करोड़ रुपये की मांग कर रही है, उस के उप्पर अत्याचार कर रही है, उनको 4 महीने से कमरे में बंद कर के पिटाई कर रही है, यह है कलियुग की वो संतान जिस के लिए माँ बाप ने शायद रात दिन एक कर दिया होगा, अपने सारे सपने भी खत्म कर दिए होंगे, अगर उन्होंने कभी देखे भी होंगे, बहुत बुरा समय आ चूका है , अब तो इंसानियत भी मर चुकी है, और रह गयी है सिर्फ पूँजी पर नजर, उस को कैसे भी हथिया लिया जाए, बूढ़े – बुढ़िआ का क्या है, पता नहीं कब चल बसे , आने वाले समय में पता नहीं संतान होगी भी या नहीं होगी, अगर होगी तो अवश्य ही वो भी बेहद कठोर , गुस्सैल ही होगी, सत्य कहा गया है, जैसा कोई करता है, वैसा ही भरता भी है, आज नहीं तो कल इस का किया फल अवश्य मिलेगा, यह नहीं भूलना चाहिए !!

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 3 Comments · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
शिक्षक है आदर्श हमारा
शिक्षक है आदर्श हमारा
Harminder Kaur
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उर्दू
उर्दू
Shekhar Chandra Mitra
🌱कर्तव्य बोध🌱
🌱कर्तव्य बोध🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम्हारा साथ
तुम्हारा साथ
Ram Krishan Rastogi
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
Loading...