Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2022 · 1 min read

कला

कला
~~°~~°~~°
कला बिना जग सूना लागे ,
मानव,पूंछहीन पशु के है समान ,
ज्ञान यदि पहचान दिलाता ,
कला ही है जो देता सम्मान।

कला से विकृति को ढक लो यारो ,
कला विरक्ति वैराग्य समान ।
कला ही है प्रेम का रूप अनोखा ,
कला को तुम मानो भगवान ।

कला हुनर है जीना सिखलाता ,
कलाकार का रखता मान ।
काम क्रोध को दूर ही रखता ,
अहंकारी को नहीं इसका ज्ञान ।

कला कोई भी दिल में बसा लो ,
गीत संगीत हो या चित्रकारी ज्ञान ।
कला अनेकों है इस जग में ,
जिसने परखा वो हुआ धनवान ।

कला से है ईश्वर का नाता ,
डमरू है शिव की पहचान ।
वीणा झंकृत करता सदा मन को ,
कला से ही होता प्रभु अंतर्ध्यान ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ११ /११/२०२२
मार्गशीर्ष ,कृष्ण पक्ष,तृतीया ,शुक्रवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

6 Likes · 8 Comments · 509 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-558💐
💐प्रेम कौतुक-558💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
Kishore Nigam
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
=====
=====
AJAY AMITABH SUMAN
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
Who is whose best friend
Who is whose best friend
Ankita Patel
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
3089.*पूर्णिका*
3089.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...