Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

“कलम के लड़ाई”

“कलम के लड़ाई”
कलम के लड़ाई ह
बन्दूक ले भारी होथे,
जुद्ध करे खातिर
एकरो तियारी होथे।

8 Likes · 6 Comments · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
विरह वेदना फूल तितली
विरह वेदना फूल तितली
SATPAL CHAUHAN
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
वक्त की चोट
वक्त की चोट
Surinder blackpen
"शिक्षक तो बोलेगा”
पंकज कुमार कर्ण
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
है जरूरी हो रहे
है जरूरी हो रहे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
// माँ की ममता //
// माँ की ममता //
Shivkumar barman
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
Taj Mohammad
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
दीवाली की रात आयी
दीवाली की रात आयी
Sarfaraz Ahmed Aasee
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-549💐
💐प्रेम कौतुक-549💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...