Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2022 · 1 min read

कलंकित मानवता

जिसमें प्रतिभा
उपेक्षित है!
जिसमें परिश्रम
शोषित है!!
वह देश विश्वगुरु
क्या ख़ाक बनेगा!
जिसमें मानवता
कलंकित है!!
#JaiBhim #SupremeCourt
#Ambedkar #दलित #पिछड़ा
#Discrimination #आदिवासी
#कार्तिकभील_को_न्याय_दो #हक
#kartikbhil #उत्पीड़न #अत्याचार
#इंसाफ़ #Justice #Talent #सच

Language: Hindi
1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"कहाँ ठिकाना होगा?"
Dr. Kishan tandon kranti
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*Author प्रणय प्रभात*
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
Loading...