Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

“कर्म और भाग्य”

“कर्म और भाग्य”
कर्म सीढ़ी है और भाग्य लिफ्ट। लिफ्ट बन्द हो सकता है, लेकिन कर्म हमेशा ऊँचाई की ओर ले जाता है।

2 Likes · 2 Comments · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
🙅Fact🙅
🙅Fact🙅
*प्रणय प्रभात*
दोहा सप्तक. . . . . रिश्ते
दोहा सप्तक. . . . . रिश्ते
sushil sarna
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"वो जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
सुखम् दुखम
सुखम् दुखम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
फितरत
फितरत
Sukoon
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
Ravi Prakash
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...