Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

*कमाल की बातें*

हम उनको प्रेम, वो हमको इस्तेमाल किया करते थे ,
क्या बताएं वो बातें कितनी कमाल किया करते थे ।

कहते थे ‘कुछ दिन से मुझे तेरी आदत सी हो गई है’ ,
इन फिल्मी बातों पर हम भी ऐतबार किया करते थे,
क्या बताएं वो बातें कितनी कमाल किया करते थे ।

रिश्ता था बस मतलब का, बहुत देर से समझे हम ,
पहले तो इसी रिश्ते पर हम दिल-ओ-जान दिया करते थे,
क्या बताएं वो बातें कितनी कमाल किया करते थे ।

Language: Hindi
7 Likes · 4 Comments · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
2385.पूर्णिका
2385.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
Dr MusafiR BaithA
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
Ravi Prakash
इक नेता दूल्हे का फूफा,
इक नेता दूल्हे का फूफा,
*Author प्रणय प्रभात*
🌸 आशा का दीप 🌸
🌸 आशा का दीप 🌸
Mahima shukla
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...