Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

*कभी होती अमावस्या ,कभी पूनम कहाती है 【मुक्तक】*

कभी होती अमावस्या ,कभी पूनम कहाती है 【मुक्तक】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
कभी होती अमावस्या ,कभी पूनम कहाती है
कभी जाड़ा कभी गर्मी ,कभी बरसात आती है
बदलती हैं परिस्थितियाँ, नए नित दौर हैं आते
ठहर जाना मरण होगा, हृदय-धड़कन बताती है
————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर(उ.प्र.)
9997615451

283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
गुमनाम 'बाबा'
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
Shweta Soni
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
पूर्वार्थ
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Pratibha Pandey
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर आपकी निरंकुश व नाबालिग औलाद
अगर आपकी निरंकुश व नाबालिग औलाद "ड्रिंकिंग और ड्रायविंग" की
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक – आज के रिश्ते
मुक्तक – आज के रिश्ते
Sonam Puneet Dubey
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2494.पूर्णिका
2494.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जनता मुफ्त बदनाम
जनता मुफ्त बदनाम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
लोग कहते हैं कि
लोग कहते हैं कि
VINOD CHAUHAN
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
Loading...