Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका

कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका)
_________________________
(1)
कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है
कभी लगता है जैसे आग, बस इसको लगाना है
(2)
कभी लगता है हमको धर्म, गुणकारी बनाएगा
कभी लगता है इसका कार्य, दोषों को बढ़ाना है
(3)
कभी लगता है हम में धर्म, मानवता जगाएगा
कभी लगता है इसका काम, दानवता सिखाना है
(4)
कभी लगता है यह सद्भाव, मैत्री पथ अहिंसा का
कभी लगता है जैसे धर्म, चाकू बस चलाना है
( 5 )
कभी लगता है जैसे धर्म, जोड़ेगा मनुष्यों को
कभी लगता है दुश्मन यह, मनुजता का पुराना है
_________________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999761 5451

276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"कंजूस"
Dr. Kishan tandon kranti
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
"" *ईश्वर* ""
सुनीलानंद महंत
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
माँ।
माँ।
Dr Archana Gupta
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
सजाता कौन
सजाता कौन
surenderpal vaidya
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2336.पूर्णिका
2336.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सीख
सीख
Adha Deshwal
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरे रहबर मेरे मालिक
मेरे रहबर मेरे मालिक
gurudeenverma198
Loading...