Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

कभी रहे पूजा योग्य जो,

कभी रहे पूजा योग्य जो,
थे सदा देवतुल्य
कहाँ गए उनके सभी,
वो सिद्धान्त अतुल्य
—महावीर उत्तरांचली

1 Like · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
"औरत”
Dr Meenu Poonia
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"देखो"
Dr. Kishan tandon kranti
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
Ravi Prakash
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
भूख से लोग
भूख से लोग
Dr fauzia Naseem shad
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
वंदना
वंदना
Rashmi Sanjay
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
Loading...