Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)

कभी नहीं है हारा मन
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
जीवन पथ पर बढ़ता रहता, कभी नहीं है हारा मन।
स्वयं पुकारा करता हमको, बन जाता हरकारा मन।

कभी कभी जब थक जाते हम, कर लेते विश्राम तनिक।
साथ साथ फिर कदम बढ़ाता, भाव भरा दुखियारा मन।

फूलों के मौसम में हँसता, मौन देख लेता पतझड़।
सर्दी गर्मी हर मौसम को, सहता खूब हमारा मन।

जीवन की हर बात समझता, किंतु सभी कहना मुश्किल।
कभी उलझ जाता बातों में, करता कभी किनारा मन।

कभी निराशा के क्षण आते, अंधकार दिखता सम्मुख।
आस किरण लेकर आ जाता, बनता एक सहारा मन।

भाव स्नेह के जग जाते जब, अंतर्मन होता हर्षित।
धवल चांदनी में चंदा संग, बनता एक सितारा मन।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हिमाचल प्रदेश)

159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
तीन सौ वर्ष की आयु  : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
तीन सौ वर्ष की आयु : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
Ravi Prakash
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
■ विशेष व्यंग्य...
■ विशेष व्यंग्य...
*प्रणय प्रभात*
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
"इसलिए जंग जरूरी है"
Dr. Kishan tandon kranti
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...