Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-345💐

कभी कुछ तो मेरे मन सा कह दो,
तसल्ली दो इक झूठा वादा कह दो,
कभी मिले तो सच्ची मुस्कुराहट देना,
रहेंगे तुम्हारे ही,इक दफ़ा यूँ ही कह दो

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
Ravi Prakash
खामोशी की आहट
खामोशी की आहट
Buddha Prakash
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
'अशांत' शेखर
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
नींद
नींद
Diwakar Mahto
विद्या:कविता
विद्या:कविता
rekha mohan
प्रेम की अनिवार्यता
प्रेम की अनिवार्यता
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
आँसू
आँसू
Dr. Kishan tandon kranti
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
DrLakshman Jha Parimal
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
सुरक्षा कवच
सुरक्षा कवच
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
राष्ट्र-हितैषी के रूप में
राष्ट्र-हितैषी के रूप में
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-95💐
💐अज्ञात के प्रति-95💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
जरा सी गलतफहमी पर
जरा सी गलतफहमी पर
Vishal babu (vishu)
Loading...