Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-345💐

कभी कुछ तो मेरे मन सा कह दो,
तसल्ली दो इक झूठा वादा कह दो,
कभी मिले तो सच्ची मुस्कुराहट देना,
रहेंगे तुम्हारे ही,इक दफ़ा यूँ ही कह दो

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
कितनी आवाज़ दी
कितनी आवाज़ दी
Dr fauzia Naseem shad
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
........?
........?
शेखर सिंह
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
Shweta Soni
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*पंचचामर छंद*
*पंचचामर छंद*
नवल किशोर सिंह
"बेल"
Dr. Kishan tandon kranti
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
Rj Anand Prajapati
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...