Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

“कभी-कभी”

“कभी-कभी”
कभी-कभी याद आती है
उन लोगों की,
जो धरती-आकाश की तरह
किसी छोर पर
मिलते हुए तो दिखते हैं
लेकिन मिल नहीं सकते कभी।
-डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

6 Likes · 5 Comments · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पिता
मेरे पिता
Dr.Pratibha Prakash
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मैं सब कुछ सुनकर मैं चुपचाप लौट आता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"पवित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
■ बड़ा सवाल ■
■ बड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
Loading...