Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,

कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
यह कैसा लगा है पप्पू जी को रोग ।
करें भी क्या शादी की उम्र निकल गई
नहीं बन पाया अब तक जीवन साथ से संजोग ।

1 Like · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
Harminder Kaur
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
"प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
मछली रानी
मछली रानी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
😊बदलाव😊
😊बदलाव😊
*Author प्रणय प्रभात*
कहना
कहना
Dr. Mahesh Kumawat
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
शाकाहारी जिंदगी, समझो गुण की खान (कुंडलिया)
शाकाहारी जिंदगी, समझो गुण की खान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुश्किल हालात हैं
मुश्किल हालात हैं
शेखर सिंह
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सफलता
सफलता
Babli Jha
-- मुंह पर टीका करना --
-- मुंह पर टीका करना --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
Loading...