Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

कबूल करना मेरे श्याम

कबूल करना मेरे श्याम

दुआ करती हूं अर्जि तेरे चरणों में डाल,
वह बगिया फूलों सी महके, कबूल करना मेरे श्याम।
बेटी बन जिसके निकला है यह प्यारा सा चांद,
जन्मदिन है आज उसका, उसको मिले सब खुशियां मेरे श्याम।।

#seematuhaina

2 Likes · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-510💐
💐प्रेम कौतुक-510💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में ख़ुशी
जीवन में ख़ुशी
Dr fauzia Naseem shad
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
Ms.Ankit Halke jha
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
Ravi Prakash
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
Loading...