Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2017 · 1 min read

कफ़न

मुस्कुरा
जब जब बढ़ाया
इक कदम
तूफ़ान नज़रों
में समाया
दम- ब- दम
घेरकर सारी
दिशाओं से मुझे
वक्त ने
नज़रे चुराईं
फिर दमन
मेरा पिंजर
आज भी
चुपचाप है
देर कितनी
कब ये
ओढ़ेगा कफ़न……

Language: Hindi
1 Like · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तलाश उसकी रखो"
Dr. Kishan tandon kranti
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
*Author प्रणय प्रभात*
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
हमें रामायण
हमें रामायण
Dr.Rashmi Mishra
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
* वक्त की समुद्र *
* वक्त की समुद्र *
Nishant prakhar
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
SPK Sachin Lodhi
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
Loading...