Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

कत्ल खुलेआम

उसके चले जाने से कुछ ऐसा सितम हुआ हम पर !
मत पूछो क्या क्या जूल्म हुआ हम पर !
पत्ता टूट कर गिरता है जैसे पेड़ों से
कुछ इश कदर कतलेआम हुआ हम पर !!

उसने हमारी और जो मुड़ कर देखना छोड़ दिया !
हमारी ज़िंदगी ने भी अब आगे बढ़ना छोड़ दिया !
कुछ इस कदर टूटे हैं हम उसके चले जाने से ,
ऐसा लगता है जैसेे इस दिल ने धड़कना छोड़ दिया !!

हम ना कहते थे, ये जिंदगी तुम्हारे नाम हो गया !
यहाँ तो हमारा कत्ल ही खुलेआम हो गया !
देखो, हमें छोड़कर चले गये तुम,
और दुनिया में मशहुर हमारा नाम हो गया !!

–दिवाकर महतो
राँची (झारखंड)

25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
थकान...!!
थकान...!!
Ravi Betulwala
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*त्रिशूल (बाल कविता)*
*त्रिशूल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
नेता
नेता
surenderpal vaidya
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
अंतहीन
अंतहीन
Dr. Rajeev Jain
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
Subhash Singhai
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
ये ज़िंदगी एक अजीब कहानी है !!
ये ज़िंदगी एक अजीब कहानी है !!
Rachana
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
वसंत ऋतु
वसंत ऋतु
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...