Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

*और ऊपर उठती गयी…….मेरी माँ*

जैसे, जैसे मैं
पढ़ती गयी
मेरी आँखें नम
उसकी चमकती गयीं |
उसकी एक, एक ख़ूबी
जो मेरी आँखों में रह गयी,
एक, एक लम्हा जो
उसने हमारे नाम कर दिया,
वो हर एक पल उसका
जो हमारी ख़ुशियों का दाम हुआ|
संस्कारों की पोटली जो हर क्षण
थमाती रही हमें,
शब्दों में कैसे समाते वो
फिर भी उकेरी उसकी तस्वीर मैंने
कुछ आड़ी, कुछ तिरछी रेखाएं
कुछ अनगढ़ शब्दों का पहना के जामा
चाँद-सी थाली में सजा
तारों के संग जब परोसा उसे
बिखर, बिखर गयी मैं
निखर, निखर गयी वो,
झुरियाँ निस्तेज हो गयीं |
अश्रुपूरित नयन, कंपकंपाते होठ
मैं पढ़ती गयी, पढ़ती गयी और
उसके उन्नत ललाट पर
उमड़ती एक, एक किरण
बीते समय की थकावट को कम कर,
उसे रूई-सा हल्का करती गयी
भीगी आँखों के कोरों से जब-जब देखा उसे
उसकी मुस्कराहट उम्र उसकी कम करती गयी|
हाँ , मेरी माँ अपने बारे में लिखे
मेरे शब्दों को सुन निखरती गयी,
वो मेरी नज़रों में
और ऊपर, और ऊपर उठती गयी|

Language: Hindi
10 Likes · 5 Comments · 1341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Poonam Matia
View all
You may also like:
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
༺♥✧
༺♥✧
Satyaveer vaishnav
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
Dushyant Kumar Patel
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
3186.*पूर्णिका*
3186.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"हाशिये में पड़ी नारी"
Dr. Kishan tandon kranti
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
सत्यमेव जयते
सत्यमेव जयते
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बावला
बावला
Ajay Mishra
Loading...