Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

औरों की खुशी के लिए ।

कुछ काम ऐसे भी करने चाहिए,
औरों की खुशी के लिए,
अपने स्वार्थ को दरकिनार कर के,
खुद के दुखों को तज कर ।

कभी कभी जीवन जी लेना चाहिए,
औरों की खुशी के लिए,
संघर्षो को अपने छुपा कर,
समस्याओं से दूरी बना कर।

जानबूझ कर या अंजान बनके,
औरों की खुशी के लिए,
यूँ ही जरूरत मंदो को सहयोग कर के,
थोड़ी-सी अपनी जरूरत कम कर के।

किसी मौके मे दावत दे दिया करो,
औरों की खुशी ले लिए,
भूखों का भी पेट भरे निवाला पा कर,
अपनी थाली के बर्बाद होते भोजन को बचा कर ।

रास्ते चलते मुलाक़ात कर लिया करो,
औरों की खुशी के लिए,
अपने को उनके रास्तो की ओर मोड़ कर,
कटु शब्दों को कम कर दो मीठे शब्द जोड़ कर।

बिखरे हुए रिश्ते समेट लेना चाहिए,
औरों की खुशी के लिए,
बुरी लगे जो बात रोक कर,
माफी माँग ले प्रेम से थोड़ा झुक कर।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
कुदरत और भाग्य......एक सच
कुदरत और भाग्य......एक सच
Neeraj Agarwal
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
कवि रमेशराज
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
Ravi Prakash
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
हे राम!धरा पर आ जाओ
हे राम!धरा पर आ जाओ
Mukta Rashmi
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
Loading...