Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

औरतें

#औरतें
हिमगिरि की चोटियों पे धूप सी ठहरी औरतें।
क्षीर- सिन्धु के भँवर सी ख़ामोश गहरी औरतें ।

सुबह के झरने सी वो तो,खिलखिलाती हैं सदा।
बर्फ़ के टीलों की जैसे शीत लहरी औरतें।

रोज़ ही घर -बाज़ारों में, दफ़्तरों में, खट रहीं,
कर्त्तव्य के अधि- ताप में तपकर निखरी औरतें ।

नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
1 Like · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पंछी
पंछी
sushil sarna
#अहसास से उपजा शेर।
#अहसास से उपजा शेर।
*प्रणय प्रभात*
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
Umender kumar
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द्रमा
चन्द्रमा
Dinesh Kumar Gangwar
टूटा हुआ सा
टूटा हुआ सा
Dr fauzia Naseem shad
विश्वगुरु
विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
*सादगी के हमारे प्रयोग (हास्य व्यंग्य )*
Ravi Prakash
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
gurudeenverma198
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...