ओ मंजिल के मुसाफिर

एक मित्र को जन्म दिन पर प्रोत्साहित करती एक रचना ।
आप भी अपने मित्र को ये पैगाम दे सकते हैं ।

ओ मंजिल के मुसाफिर
चलते रहना सुबह और शाम
मेरा बताना और तेरा सुनना
कभी ने रुकने पाये , तेरे हाथों से शुभ काम
वक़्त बदले सदिया बदले , तूने नहीं बदलने अपने उसूल
ले जा बुलन्दियों पर देश को , देती कसम तुझे ये मिट्टी की धूल
ना रुकना और ना ही थकना
विचारों से ही लड़ना है
लिखकर खूब कलम चलाकर
ऐसे ही आगे बढ़ना है
नित नित पढ़ना , आगे बढ़ना
इस ऊर्जा के आह्वान को
और भी लेजा आगे तू
मेरे देश महान को
आने वाली पीढ़ियों को तूने
समझाकर जाना है
लिखकर कलम से अपनी
राज जिंदगी के बतलाना है
कर तेज़ धार कलम की अब तू
होजा लक्ष्य पर सवार
आज हुआ तेरा जन्म नया
यही करना हर वर्ष विचार
अच्छे को कर नित प्रोत्साहित
बुरे को दे शर्म से मार
तेरे आचरण से सब बदले
ऐसा कर कलम का वार
पुरानी बीती भूल जाना
आगे है तूने बस बढ़ते जाना
सरल शब्दों में दी तुम्हे ऊर्जा
बस यही राग तुमने नित पढ़ते जाना

बस यही राग तुमने नित पढ़ते जाना ।।

271 Views
You may also like:
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
ग़ज़ल
kamal purohit
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
हे गुरू।
Anamika Singh
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
नाम
Ranjit Jha
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
**नसीब**
Dr. Alpa H.
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
पिता
Kanchan Khanna
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृ रूप
श्री रमण
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...