Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 2 min read

ऑंधियों का दौर

पाषाण युग से आधुनिक युग तक, सभ्यताओं का उद्भव हुआ।
विकास की इस लंबी यात्रा में, जिज्ञासा से ही सब संभव हुआ।
कभी समय संग कदमताल करे, तो कभी पीछे-पीछे चलता है।
ये तथ्य है वैश्विक अटल सत्य, हर किसी का समय बदलता है।

कोई भी युग हो, कोई भी जग हो, केवल समय ही महापौर है।
समय उल्टी चाल चल रहा, आजकल बस ऑंधियों का दौर है।

सामाजिक विस्तार के क्रम में, हर जीव का संघटन शुरू हुआ।
जन-जन से परिवार बनते गए, कुछ ऐसा परिवर्तन शुरू हुआ।
परिवारों में दीवारें खिंच गई, अपना अलग प्रबन्धन शुरू हुआ।
फिर उल्टी दिशा में चलते हुए, परिवारों का विघटन शुरू हुआ।

आज सभी पृथक हो गए, सबके अलग मशवरे, अलग तौर हैं।
समय उल्टी चाल चल रहा, आजकल बस ऑंधियों का दौर है।

परिवारों के इस मनमुटाव का, सारे बच्चों पर असर पड़ता रहा।
उसका खिलखिलाता बचपन, घर की अनबन से ही लड़ता रहा।
आज बच्चे नए शौक में पड़कर, छोटी उम्र में शैतान हो गए हैं।
उनके बिना स्कूल, घर-आंगन और मैदान भी वीरान हो गए हैं।

बच्चों का बचपन छिन चुका, क्या तुमने इस पर किया गौर है?
समय उल्टी चाल चल रहा, आजकल बस ऑंधियों का दौर है।

घर में बच्चों के बड़े होते ही, अलग होने की आवाज़ उठती है।
कल जिन ख्वाहिशों को छिपाया, आज वो ज़ाहिर हो उठती हैं।
फिर वही चक्र चलने लगे, अलग व बंद कमरों का खुला खेल।
भावनाओं और संवेदनाओं का, कहीं भी न होता परस्पर मेल।

समय रहते समय को बचाइए, अब हर तरफ़ बस यही शोर है।
समय उल्टी चाल चल रहा, आजकल बस ऑंधियों का दौर है।

Language: Hindi
5 Likes · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
"आँखों की नमी"
Dr. Kishan tandon kranti
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
■ रोचक यात्रा वृत्तांत :-
■ रोचक यात्रा वृत्तांत :-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
Dr fauzia Naseem shad
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सृष्टि
सृष्टि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
Loading...