Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

ऐ बचपना

ऐ बचपना, मुझे जाने दे
आगे बड़ना है मुझे
तेरी मासूमियत को छोड़कर
मुसीबतों से लड़ना है मुझे
तू बहुत नादान है
मेरे चेहरे की मुस्कान है
पर अब दुनिया को समझना है मुझे
तेरी शैतानियों को छोड़कर
मुसीबतों से लड़ना है मुझे
मेरे दिल में अपना घर बनाया था
मीठे सपनो से तूने सजाया था
उन्ही सपनो के लिए
आगे बड़ना है मुझे
तेरी यादो को छोड़कर
मुसीबतों से लड़ना है मुझे
तेरी आहट से हर पल को जीते थे हम
तेरे साये में महफूज़ रहते थे हम
पर अब अकेले ही चलना है मुझे
तेरी आदतों को छोड़कर
मुसीबतों से लड़ना है मुझे
– सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
1 Like · 500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अर्थपुराण
अर्थपुराण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh Manu
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ ट्रिक
■ ट्रिक
*Author प्रणय प्रभात*
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
घट -घट में बसे राम
घट -घट में बसे राम
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
साथ छूटा जब किसी का, फिर न दोबारा मिला(मुक्तक)
साथ छूटा जब किसी का, फिर न दोबारा मिला(मुक्तक)
Ravi Prakash
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
न चाहिए
न चाहिए
Divya Mishra
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मां की पाठशाला
मां की पाठशाला
Shekhar Chandra Mitra
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
कौन लोग थे
कौन लोग थे
Surinder blackpen
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Sakshi Tripathi
Loading...