Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

ऐे ज़िंदगी

ऐे ज़िंदगी मुझे तुझसे मोहब्बत क्युँ है,
तू हसती है मेरे जख्मों पर ,
फिर मुझे तेरी आदत क्युँ है |
गिरना भी तूने सिखाया,
उठना भी तूने सिखाया,
फिर तुझे मेरी जरुरत क्युँ है ||
कुछ तो दिलचस्बी है,
मेरी सांसो में तुझे,
आखिर मुझसे इतनी चाहत क्युँ है |
गिर कर भी मैंने,
सीखा है हसना ज़िंदगी से,
आज ज़िंदगी ही मेरी इबादत क्युँ है ||
ज़िंदगी को समझना है तो,
चलना सीखो रुकना नहीं,
चलते मुसाफिरों को ये
मंजिल से मिलाती है |
सिर्फ जीना ज़िंदगी नहीं,
ज़िंदगी तो वो है,
जो औरो के काम आती है ||

– सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 3 Comments · 456 Views
You may also like:
आजकल मैं
gurudeenverma198
✍️आव्हान✍️
'अशांत' शेखर
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मौत
Alok Saxena
माँ ब्रह्मचारिणी
Vandana Namdev
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दूसरी सुर्पनखा: राक्षसी अधोमुखी
AJAY AMITABH SUMAN
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu hai na'
गरीबी तमाशा बना
Dr fauzia Naseem shad
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
हास्य गजल
Sandeep Albela
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
अपना देश
shabina. Naaz
किसी का भाई ,किसी का जान
Nishant prakhar
पिता
pradeep nagarwal
बेटी
Kanchan sarda Malu
बोलना शुरू करो
Shekhar Chandra Mitra
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
छत्रपति शिवजी महाराज के 392 वें जन्मदिवस के सुअवसर पर...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
Loading...