Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

ऐे ज़िंदगी

ऐे ज़िंदगी मुझे तुझसे मोहब्बत क्युँ है,
तू हसती है मेरे जख्मों पर ,
फिर मुझे तेरी आदत क्युँ है |
गिरना भी तूने सिखाया,
उठना भी तूने सिखाया,
फिर तुझे मेरी जरुरत क्युँ है ||
कुछ तो दिलचस्बी है,
मेरी सांसो में तुझे,
आखिर मुझसे इतनी चाहत क्युँ है |
गिर कर भी मैंने,
सीखा है हसना ज़िंदगी से,
आज ज़िंदगी ही मेरी इबादत क्युँ है ||
ज़िंदगी को समझना है तो,
चलना सीखो रुकना नहीं,
चलते मुसाफिरों को ये
मंजिल से मिलाती है |
सिर्फ जीना ज़िंदगी नहीं,
ज़िंदगी तो वो है,
जो औरो के काम आती है ||

– सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
1 Like · 3 Comments · 623 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
NeelPadam
NeelPadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
. काला काला बादल
. काला काला बादल
Paras Nath Jha
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
Manisha Manjari
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
"अजीब दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
" सौग़ात " - गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3031.*पूर्णिका*
3031.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...