Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“ऐसा क्यों होता है?”

“ऐसा क्यों होता है?”
ठहाका लगाकर जोरों से
हँसने वाला दिल भी
अन्दर ही अन्दर रोता है,
आखिर
ऐसा क्यों होता है?

1 Like · 1 Comment · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
gurudeenverma198
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
प्रेम दिवानी
प्रेम दिवानी
Pratibha Pandey
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
✍️ शेखर सिंह
✍️ शेखर सिंह
शेखर सिंह
3065.*पूर्णिका*
3065.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
"परमात्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
Loading...