Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

ए’लान – ए – जंग

दिल पर पत्थर रखने को मजबूर हुआ ,
इंसानियत का ब -हमा-वजूद जब तार-तार हुआ ,
वहशी दरिंदों के हैवानियत की इंतिहा हो गई ,
जब बेबस मज़लूमों की ‘इस्मत सरेआम नीलाम की गई ,
फ़िरका-परस्ती की सियासत में इंसान
किस हद तक गिर सकता है ?
जो अपनी खुदगर्ज़ी के लिए वहशी दरिंदा भी
बन सकता है ,
इंसानियत को बचाने के लिए अब जंग का
ए’लान करना होगा ,
इन दरिंदों की हैवानियत को मिटाकर ही
दम लेना होगा ,
वरना वह दिन दूर नहीं जब इंसानियत
दरिंदों के हाथों कुचली सिसकती रह जाएगी ,
और अपनी हस्ती खोकर गुम होकर रह जाएगी।

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
3009.*पूर्णिका*
3009.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
जाति है कि जाती नहीं
जाति है कि जाती नहीं
Shekhar Chandra Mitra
समलैंगिकता-एक मनोविकार
समलैंगिकता-एक मनोविकार
मनोज कर्ण
फितरत
फितरत
नव लेखिका
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
"वादा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
Manisha Manjari
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
कृष्णकांत गुर्जर
💐प्रेम कौतुक-477💐
💐प्रेम कौतुक-477💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...