Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

#एक_स्तुति

#एक_स्तुति
■ देवाधिदेव महादेव को अर्पित
【प्रणय प्रभात】

हे प्रलयंकर, हे शिवशंकर
हे आशुतोष, औघड़दानी।
हे महारुद्र, हे महाकाल
हे महादेव, हे वरदानी।।

हे शूलपाणि, डमरुधारी
है नीलकंठ, हे विषपायी।
हे चंद्रमौलि, देवाधिदेव
नटराज, सदाशिव, वरदायी ।।
हे शक्तिमान, हे त्रिपुरारी
हे मदनविजेता, हे महेश.
हे गंगाधर, हे महाविकट
कैलाशनिवासी, व्योमकेश..

नंदीवाहन, पशुपतिधारक
हे भूतनाथ, हे संहारक.
गजवदन पिता, अम्बिकानाथ
है भस्मभूत, हे अमरनाथ।।

करबद्ध विनय करता अबोध
बस भाव सुमन स्वीकार करो।
अब नयन तीसरा खोल नाथ
सब दुष्टों का संहार करो।।

■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
abhinandan
abhinandan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
Shashi Dhar Kumar
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
Rj Anand Prajapati
■ ये हैं ठेकेदार
■ ये हैं ठेकेदार
*Author प्रणय प्रभात*
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सहन करो या दफन करो
सहन करो या दफन करो
goutam shaw
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
Ravi Prakash
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
Loading...