Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

‘एक सयानी बिटिया’

मन में छुपी थी खुशी अथाह,
दुखः की न थी कोई परवाह।
पौलीथीन तने तंबू के नीचे भी,
झलक रही थी जीने की चाह।

मुख मैला पर उत्साह घना था,
तन का पट कई जगह छना था।
उलझी सी लटें संवार रही थी,
हाथ में उसके टूटा आइना था।

आँखें काली सूरत सांवली थी,
नैन नक्स में दिखती भली थी।
बैठी थी लिए साग तरी कटोरी,
रोटी संग छोटी गुड़ की डली थी।

स्वर या व्यंजन को वो ना जाने,
पोथी में क्या है वो ना पहचाने।
चतुर सयानी लगती थी बिटिया,
गाती थी मीठे मीठे गीत पुराने।

गहरी नींद ले बेफिक्री से सोती,
कल क्या होगा कभी न रोती।
दुख के गिट्टे उछाल रोज खेलती,
खुशियों के जीवन में दाने बोती।

स्वरचित
-गोदाम्बरी नेगी (हरिद्वार उत्तराखंड)

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Godambari Negi
View all
You may also like:
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
वादी ए भोपाल हूं
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
Er. Sanjay Shrivastava
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
Pushpraj devhare
" पलास "
Pushpraj Anant
"उदास सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्मठता के पर्याय : श्री शिव हरि गर्ग
कर्मठता के पर्याय : श्री शिव हरि गर्ग
Ravi Prakash
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
VEDANTA PATEL
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
Loading...