Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

एक शे’र

इश्क़ में कोई ऐसे……. अच्छा लगता है ।
नींद को जैसे ख़्वाब भी सच्चा लगता है ।।

©डॉ वासिफ़ काज़ी , इंदौर
©काज़ी की कलम ✒️

Language: Hindi
Tag: शेर
98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
जब कभी  मिलने आओगे
जब कभी मिलने आओगे
Dr Manju Saini
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
2669.*पूर्णिका*
2669.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...