Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2016 · 2 min read

एक लाल तो देदे माता

?? एक लाल तो दे दे माता ??

सफेद कबूतर उड़ाए थे जो हमने
शांति की तलाश में
बाज ने झपट नोंच लिए वो
बीच आसमान में

गुब्बारे छोड़े थे जो हमने
अमन का सन्देश देकर
नफरत की तपिश से फूट गए वो
बीच आसमान में

अगर शांति चाहिए तो
खुले नुकीले पंखों वाले
स्लेटी रंग के जहाजी कबूतर
उड़ाने होंगे अब आसमान में

अमन का सन्देश देना है तो
पीतल की परत वाले गोल गुब्बारे
हवा नहीं इनमें कुछ ठोस भरो
फटे तो सुन सकें बहरे भी
जब गूंजे आसमान में

बहुत हो चुका स्वाँग रुठने-मनाने का
मान-मनोव्वल छोड़ो
अब असल रूप में आ जाओ
दूसरा नहीं समझे जब
क्या रखा है ऐसे मान में

समयबद्ध,लक्ष्यभेदक,अग्निबाण अब संभाल लो
दिखा दो दुश्मन को क्या होता है
जब आता है अपना तीर-कमान में

रेलगाड़ी और बसों को चलाना छोड़ो अब
चलाना हो तो कुछ ऐसा चलाओ
बेरोक चढ़े जो खन्दक या पहाड़ हो
दुश्मन की आँख ना खुल सके
धूल ऐसी उड़े मैदान में

ये कैसा चलन आ गया देखो मेर देश में
बेऔलादी की शर्म से बचने को
अपने लिए पैदा करके लाडला
तौबा कर लेते हैं,बस एक संतान में

शहज़ादे हमारे घर पैदा हों
और शहीद दूसरों की कोख से
कितना नीचे गिर चुके हैं हम
झांक कर देखो ज़रा अपने गिरेबान में

एक लाल पैदा किया और
अंग्रेजी स्कूल ढूंढने लगे
दूसरा बच्चा करना क्या
यूँ कहकर आधुनिक बनने लगे
एक देश के लिए भी पैदा कर दो
क्या कमी आ जायेगी तुम्हारी शान में

एक पैदा कर इंजीनियर बना,विदेश भेज दिया
वो विदेशों की खूबियां बढ़ाए
और फिर हम लग जाते हैं
अपने देश की कमियां गिनाने के काम में

बहुत हो गया अब तो समझो
एक लाल तो देश को दे दो
शीश काट कर ले गया दुश्मन
सीमा पर धड़ पड़ा पुकारे,वीर जवान का
क्या कमी रह गई थी हमारे बलिदान में

सीमा पर धड़ पड़ा पुकारे
क्या अब पैदा नहीं होती भारत में
पन्ना धाय सी जननी
जिसने आहुति दी अपने पुत्र की
अपने राजवंश के बचाव में
और क्या अब नहीं कोई माँ कुन्ती जैसी
भीम को खुद भेजा था जिसने
दुष्ट बकासुर के संधान में

सीमा पर धड़ पड़ा पुकारे वीर जवान का
किसकी कोख से जन्म लेगा वो
कुरुक्षेत्र के इस देश में
सुखदेव,भगत सिंह के वेश में
चार चाँद लगा दे जो फिर से
भारत के स्वाभिमान में
एक लाल तो दे दे माता
देश हित बलिदान में

?तिलक राज शाक्य (अम्बाला )?

Language: Hindi
245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
Kishore Nigam
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
कृष्णकांत गुर्जर
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-397💐
💐प्रेम कौतुक-397💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
“मंच पर निस्तब्धता,
“मंच पर निस्तब्धता,
*Author प्रणय प्रभात*
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
Loading...