Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2023 · 1 min read

एक दिन आना ही होगा🌹🙏

एक दिन आना ही होगा🌹🙏
**********************
घर मुरझराया पड़ा हुआ
हृदय दर्द से व्याकुल है

बगिया है पुरखों की याद
सींचा कलियाँ विकसित हो

खिल सरस सुगंध बिखराने
पंखुड़ियां खुली समय पर ही

विकसित पुष्प मधुर मधु
भ्रमर ले भ्रमण कर जग में

प्रेम सद् भाव बरसाने वाला
माली बिन रसविहीन बसेरा

मुरझा गया आदार सत्कार
फुलवारी फूलों ने इत्र सी

खुशबु पहचान भू बनाया
गीताज्ञान कर्म की पूजा

आदर्श वाक्य सूनी बगिया
गूंज रही पास गुजर रहे

पथिक स्मृतियों की यादों
भाव विह्वल नमन करते

मालीमालिन मालकियत
छोड़ कालगति समा गए

बसा नहीं सुमन इस कुंज
गली बदल कहीं और बसे

सूनी कुंज विकसित डाली
सूख जलहीन मुरझा गए

वृथा गुमान गर्व दम्भ से
नवयौवन खिलती कलियाँ

डाली मुरझाने छोड़ गए ये
भूगर्भीय शाखी उड़ती पाती

भावों की झोंकों में दहलीज
पार छोड़ मुझे मेरी हालों पे

औरों की हाल लेने चले गए
अनुनय विनय किया आंगन

आने को अकड़ आगे बढ गए
बगिया विकसित फूलों की इस

डाली ने निज भविष्य मुरझाने
जिम्मेदारी साथ ही ले गए

कब तक कोई अपमान सहेगा
शूल बेदना खुद मुरझा जाएगा

पश्चतापे की सागर में डूब फिर
किनारा पाने की व्याकुलता में

मेरे द्वार एकदिन आना ही होगा
समय देता एक भुलावा सबको

स्वर्ग से सुंदर अपना जन्म घर
जग विदाई बेला में श्रृंगार सजा

कंधों का सहारा लिए परिक्षेत्र
भ्रमण यादों में आना ही होगा

मुरझा हुआ फूल खिलाना होगा
जन्मांतरअभिशाप मिटाना होगा
एक दिन तो आना ही होगा ॥

************************

तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
*दुराचारी का अक्सर अंत, अपने आप होता है (मुक्तक)*
*दुराचारी का अक्सर अंत, अपने आप होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Swami Ganganiya
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
जिंदगी
जिंदगी
Dr.Priya Soni Khare
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
Loading...