Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2022 · 1 min read

एक उदास शाम को

सुख-दुख का एक यार बना रखा था!
ज़िंदगी का पहला प्यार बना रखा था!!
एक रोज़ उसी ने उतारकर फेंक दिया
मुझे जिसने गले का हार बना रखा था!!
#कविता #शायरी #रोमांटिक
#sad #poetry #breakup
#heartbroken #love #दर्द

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
"अपने हक के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
ruby kumari
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
जिनके पास
जिनके पास
*Author प्रणय प्रभात*
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
जरूरी है
जरूरी है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
Loading...